All for Joomla All for Webmasters
जम्मू और कश्मीर

JeM Module Busted: जम्मू में पुलवामा दोहराने की साजिश नाकाम, JeM के 4 आतंकी गिरफ्तार

jammu

यूपी के रहने वाले इजहार खान ने बताया कि पाकिस्तान में बैठे जैश कमांडर मुनाजिर उर्फ शाहिद ने उसे अमृतसर के पास से ड्रोन द्वारा फेंके जाने वाले हथियारों को इकट्ठा करने का जिम्मा सौंपा था। इससे पहले उसे पानीपत तेल रिफाइनरी की टोह लेने के लिए कहा गया था।

श्रीनगर, जेएनएन: जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बड़े आतंकी हमले की योजना बना रहे आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की साजिश पर पानी फेर दिया है। 15 अगस्त के दिन जम्मू में पुलवामा दोहराने यानी कार युक्त आइईडी विस्फोट की सभी रूपरेखा तैयार कर ली गई थी। समय रहते पुलिस को इसकी भनक लग गई और विशेष अभियान के दौरान जैश-ए-मोहम्मद मॉड्यूल का भंडाफोड़ कर इस योजना में शामिल चार आतंकवादियों को गिरफ्तार कर लिया गया। उनसे पूछताछ की जा रही है।

आपको जानकारी हो कि सुरक्षा एजेंसियों ने पुलिस व सेना को पहले ही अलर्ट कर रखा है कि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद संगठन से जुड़े आतंकी जम्मू व कश्मीर में बड़े हमले की फिराक में है। इस सूचना के बाद से ही जम्मू व कश्मीर में आतंकी साजिशों को नाकाम बनाने के लिए सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। जम्मू व कश्मीर में नियंत्रण रेखा से सटे इलाकों में भी गश्त बढ़ा दी गई है। 

They were planning collection of arms dropped by drones and supply to active terrorists of Jaish-e-Mohammed in Kashmir valley; planting a vehicle based IED in #Jammu before 15th August & reconnaissance of important targets in other parts of the country.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि ये आतंकी पुलवामा हमले की तर्ज पर 15 अगस्त के दिन जम्मू में आइईडी विस्फोट की योजना बना रहे थे। आइजीपी मुकेश सिंह ने इस बात की पुष्टि करते हुए अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखा कि बड़े हमले को टाल दिया गया है। जैश-ए-मोहम्मद के चार आतंकियों को गिरफ्तार भी किया गया है। ये आतंकी जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले की योजना बना रहे थे। गिरफ्तार किए गए आतंकियों को सीमा पार पाकिस्तान से ड्रोन की मदद से सीमा पर फेंके जाने वाले हथियार व गोलाबारूद को कश्मीर घाटी में सक्रिय जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों तक पहुंचाने का जिम्मा सौंपा गया था।

सुरक्षा एजेंसियों की चेतावनी केे बाद से ही जम्मू मेंं सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत बनाने में जुटी पुलिस ने सबसे मुंतजिर मंजूर उर्फ ​​सैफुल्ला पुत्र मंजूर अहमद भट निवासी प्रिचू पुलवामा को गिरफ्तार किया। उसके कब्जे से एक पिस्तौल, एक मैगजीन व आठ राउंद और दो चीनी हथगोले बरामद हुए। जिस ट्रक में उसने हथियार कश्मीर घाटी पहुंचाने थे, उसे भी जब्त कर लिया गया।

इसके बाद पूछताछ करने पर उसने अपने तीन अन्य साथियों के बारे में बताया। पुलिस ने उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया। उनमें इजहार खान उर्फ ​​सोनू खान पुत्र इंतेजार खान निवासी मिरदान मोहल्ला कमंडाला शामली (यूपी), तौसीफ अहमद शाह उर्फ शौकत व अदनान पुत्र गुलाम मोहम्मद शाह निवासी जेफ, शोपियां, जहांगीर अहमद भट पुत्र मुश्ताक अहमद भट निवासी बांडजू पुलवामा भी शामिल है।

यूपी के रहने वाले इजहार खान ने बताया कि पाकिस्तान में बैठे जैश कमांडर मुनाजिर उर्फ शाहिद ने उसे अमृतसर के पास से ड्रोन द्वारा फेंके जाने वाले हथियारों को इकट्ठा करने का जिम्मा सौंपा था। इससे पहले उसे पानीपत तेल रिफाइनरी की टोह लेने के लिए कहा गया था, जो उसने किया। उसने रिफाइनरी का वीडियो तैयार कर पाकिस्तान भेजे। इसके बाद उसे अयोध्या राम जन्मभूमि की टोह करने का काम सौंपा गया, लेकिन इस कार्य को पूरा करने से पहले ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

इसी रह तौसीफ अहमद ने बताया कि जैश कमांडर शाहिद और पाकिस्तान में अबरार नाम के एक अन्य जैश आतंकवादी ने उसे जम्मू में एक मकान लेने के लिए कहा, उसने वैसे ही किया। फिर उसे जम्मू में आइईडी विस्फोट करने के लिए एक सेकेंड हैंड मोटरसाइकिल खरीदने के लिए कहा गया। उससे कहा गया कि आइईडी ड्रोन की मदद से पाकिस्तान से भेजी जाएगी। इससे पहले कि वह यह काम पूरा करता, उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

गिरफ्तार किए गए चौथे आतंकी जहांगीर अहमद भट ने बताया कि वह कश्मीर का फल व्यापारी है जो लगातार पाकिस्तान में जैश के शाहिद के संपर्क में था। उसी ने इजहार खान को उससे मिलवाया था। वह कश्मीर घाटी के अलावा देश के अन्य राज्यों में जैश-ए-मोहम्मद के लिए भर्ती कर रहा था। पुलिस का दावा है कि पूछताछ के आधार पर आगे भी गिरफ्तारियों होने की संभावना है।

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top