All for Joomla All for Webmasters
शेयर बाजार

Devyani International Vs Zomato: निवेशक कहां लगाएं दांव, अनिल सिंघवी के साथ जानें- किसमें कितना है दम

share (1)

Devyani International और Zomato ने शेयर बाजार में शानदार आगाज किया है. दोनों ने लिस्टिंग पर अच्छा रिटर्न दिया. अब नए सिरे से निवेश करना हो तो कहां पैसे लगाएं.

Devyani International Vs Zomato:करीब एक ही तरह के बिजनेस में शामिल 2 कंपनियों Devyani International और Zomato ने शेयर बाजार में धमाकेदार आगाज किया है. Zomato का स्टॉक 23 जुलाई को  बाजार में लिस्ट हुआ तो देवयानी इंटरनेशनल के शेयर में 16 अगस्त से बाजार में ट्रेडिंग शुरू हुई है. नए तरह के बिजनेस मॉडल वाली दोनों कंपनियों को बाजार का शानदार रिस्पांस मिला है. Devyani International की इश्यू प्राइस की तुलना में 57 फीसदी प्रीमियम पर, जबकि Zomato को इश्यू प्राइस की तुलना में 52 फीसदी प्रीमियम पर स्टॉक मार्केट में एंट्री हुई है. अगर आप नए निवेशक हैं तो एक सवाल मन में होगा कि मुनाफे के लिए किस कंपनी में पैसे लगाएं. जी बिजनेस के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी के साथ बात चीत में एनालिस्ट वरुण दूबे ने दोनों कंपनियों में एक तुलना कर उनके पॉजिटिव बताए हैं.

किसके साथ क्या पॉजिटिव, क्या निगेटिव

वरुण दूबे का कहना है कि Devyani International और Zomato दोनों ही कंपनियों का बिजनेस मॉडल मजबूत है. उन्होंने 5 प्वॉइंट में उनकी तुलना की है.

प्वॉइंट 1: Devyani का भारत में कई बड़े ब्रॉन्ड के साथ टाईअप है. जबकि Zomato देवयानी के ही प्रोडक्ट आपके घर तक पहुंचाती है. तो यहां Zomato की लिस्टिंग का Devyani को बड़ा फायदा होते दिख रहा है.

प्वॉइंट 2: ग्रोथ की बात करें तो Devyani International में पिछले 2 साल में 14.5 फीसदी की डीग्रोथ देखने को मिली है. जबकि Zomato में पिछले 2 साल में 52 फीसदी ग्रोथ आई है.

प्वॉइंट 3: वरुण दूबे का कहना है कि जहां तक मुनाफा कमाने की बात है, अभी दोनों ही कंपनियां घाटे में हैं. लेकिन लिस्टिंग के बाद Devyani International इस साल मुनाफे में आ सकती है. जबकि उन्होंने कुछ रिसर्च का हवाला देते हुए कहा कि Zomato को मुनाफे में आने में वित्त वर्ष 2025 तक का इंतजर करना पड़ सकता है. यहां पॉजिटिव फैक्टर Devyani International के साथ जुड़ा है.

प्वॉइंट 4: Devyani International ने आईपीओ से जो फंड रेज किया है, उसका इस्तेमाल डेट कम करने के साथ इंटरेस्ट कास्ट कम करने में किया जाएगा. वहीं Zomato इस फंड का इस्तेमाल ग्रोथ के लिए करेगी. यहां भी Zomato के साथ पॉजिटिव है.

प्वॉइंट 5: वैल्युएशन देखें तो Devyani International का मार्केट कैप टु सेल्स 13 टाइम्स है तो प्राइस टु बुक वैल्यू 120 टाइम्स है. जबकि अब Zomato का मार्केट कैप टु सेल्स 53 गुना है, जबकि प्राइस टु बुक वैल्यू 23 गुना. यानी निवेश के लिए Zomato सस्ता है.

दोनों कंपनियों के बारे में

क्विक सर्विस रेस्टोरेंट चेन की ऑपरेटर Devyani International भारत में KFC, Pizza Hut और Costa coffee की सबसे बड़ी फ्रेंचाइजी कंपनी है. जबकि Zomato आनलाइन बेस्ड फूड डिलीवरी कंपनी है. देवयानी इंटरनेशनल को निवेशकों का शानदार रिस्पांस मिला था. यह आईपीओ ओवरआल 117 गुना सब्सक्राइब हुआ. रिटेल निवेशकों के लिए रिजर्व पोर्सन को करीब 39 गुना बोली मिली थी. Zomato का इश्यू 38 गुना से ज्यादा सब्सक्राइब हुआ था. रिटेल निवेशकों के लिए रिजर्व हिस्सा  7.5 गुना के करीब सब्सक्राइब हुआ था

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top