All for Joomla All for Webmasters
धर्म

Janmashtami 2021: जानिए, जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण की कौन सी मूर्ति या चित्र घर लाना होगा शुभ

Shri_Krishna_Jayanthi

Janmashtami 2021: भगवान कृष्ण के अनंत रूप और छवियां हैं, जो कृष्ण भक्तों को तरह-तरह से लुभाती हैं। भगवान कृष्ण माखन चोर भी हैं, लड्डू गोपल भी हैं, गोविंद भी है गोपाल भी वो पार्थ सारथी भी हैं और द्वारिकाधीश भी। भगवान कृष्ण ये भांति-भांति के रूप न केवल अपने भक्तों को मोहपाश में बांध लेने के लिए हैं बल्कि उनकों समय और परिस्थिति के अनुरूप शिक्षा और मार्ग दर्शन करने का भी कार्य करते हैं। परमावतार भगवान कृष्ण के अलग-अलग रूपों के चित्र या मूर्तियां हमारे जीवन में चमत्कारी बदालाव ला सकती हैं। आइए जानते हैं कि इस जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण की कौन सी मूर्तियां और चित्र घर पर लगाने से आपकी सभी मनोकामानाओं की पूर्ति होगी…

1-लड्डू गोपाल या बाल गोपाल

जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण के लड्डू गोपाल या बाल गोपाल रूप का ही पूजन किया जाता है। इसके साथ ही मान्याता है कि संतान प्राप्ति के लिए भगवान कृष्ण के लड्डू गोपाल रूप की मूर्ति का पूजन करना चाहिए।

2- माखन चोर कृष्ण

भगवान कृष्ण का माखनचोर रूप सभी का मन लुभाने वाला रूप है, भगवान के इस रूप का चित्र या मूर्ति जन्माष्टमी के दिन घर में लाने से घर में सकारात्मक ऊर्जा और आनंद का वातावरण बना रहता है और प्रत्येक कार्य में सफलता मिलती है।

3-मुरलीधर कृष्ण

भगवान कृष्ण का मुरलीधर रूप घर में सुख, सौभाग्य का आगमन करता है। जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण को चांदी की बांसुरी चढ़ाने से आपकी सभी आर्थिक समस्याएं दूर हो जाएगी।

4- राधा-कृष्ण का चित्र

भगावन कृष्ण और राधा अनंत प्रेम का प्रतीक हैं, जिनके वैवाहिक जीवन में किसी प्रकार की समस्या आ रही हो उन्हे अपने बेड रूम में राध-कृष्ण की संयुक्त मूर्ति या चित्र लगाना चाहिए।

5- पार्थ सारथी कृष्ण

महाभारत के युद्ध में जिस प्रकार भगवान कृष्ण ने पार्थ यानी अर्जुन के रथ का सारथी बन कर अर्जुन को हर मुसीबत और परेशानी से बाहर निकाल कर सफलता दिलायी थी। इसी प्रकार अपने घर में आप भी भगवान के पार्थ सारथी रूप के चित्र लगा कर सभी परेशानियों और समस्याओं को दूर कर सकते हैं।

डिसक्लेमर

‘इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।’

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top