All for Joomla All for Webmasters
गुजरात

गुजरात विधानसभा की पहली महिला अध्यक्ष होंगी डॉ नीमाबेन आचार्य, भाजपा एवं कांग्रेस ने किया समर्थन

dr_nimaben_acharya

डॉ नीमाबेनआचार्य (Dr Nimaben Acharya) गुजरात विधानसभा (Gujarat Assembly) की पहली महिला अध्यक्ष होंगी। भाजपा (BJP) एवं कांग्रेस (Congress) विधायकों ने उनका समर्थन किया है लेकिन उपाध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक डॉ अनिल जोशीयारा ने दावेदारी जताई है। आचार्य ने शुक्रवार को भाजपा एवं कांग्रेस विधायकों के समर्थन से नामांकन पत्र दाखिल किया।

कच्छ के भुज विधानसभा क्षेत्र (Bhuj Assembly Constituency) से विधायक डॉ नीमाबेन चार बार विधानसभा की सदस्य चुनी गई। राजस्व मंत्री राजस्व राजेंद्र त्रिवेदी एवं सचेतक पंकज देसाई ने विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए डॉक्टर निमाबेन आचार्य का प्रस्ताव रखा जिसके बाद उन्होंने विधानसभा सचिव डीएम पटेल के समक्ष अपना नामांकन पत्र पेश किया। विधानसभा के नेता विपक्ष परेश धनाणी ने अध्यक्ष पद के लिए डॉ नीमाबेन का समर्थन कर दिया है जिससे अब उनका विधानसभा अध्यक्ष चुना जाना लगभग तय है। संभव है सोमवार को विधानसभा के सचिव डीएम पटेल उनके अध्यक्ष चुने जाने की घोषणा करेंगे। कांग्रेस ने परंपरा के आधार पर विधानसभा उपाध्यक्ष के पद पर अपनी दावेदारी जताई है।

विधानसभा का मानसून सत्र 27 एवं 28 सितंबर

नेता विपक्ष परेश धनाणी ने कहा है कि कांग्रेस ने उपाध्यक्ष पद विपक्ष को देने की परंपरा बनाई थी जिसे भाजपा पिछले कई सालों से नहीं अपना रही है। उन्होंने इससे पहले कहा था कि उपाध्यक्ष पद कांग्रेस को नहीं दिया जाता है तो वह अपना उम्मीदवार उतारेंगे। भाजपा ने उपाध्यक्ष पद के लिए जेठा भरवाड का नाम आगे किया है जिसके बाद कांग्रेस ने भी डॉ अनिल जोशीयारा को उपाध्यक्ष पद का उम्मीदवार बनाया है। विधानसभा का मानसून सत्र आगामी 27 एवं 28 सितंबर को आयोजित होगा। 27 सितंबर को सबसे पहले विधानसभा अध्यक्ष के रूप में संभवतः डॉ नीमाबेन आचार्य के नाम की घोषणा होगी, इसके बाद उपाध्यक्ष पद का चुनाव होगा।

जेठा भरवाड का उपाध्यक्ष चुना जाना तय

विधानसभा में भाजपा का बहुमत होने के कारण विधायक जेठा भरवाड का उपाध्यक्ष चुना जाना भी लगभग तय है लेकिन डॉक्टर जोशियारा को मैदान में लाकर कांग्रेस आदिवासी कार्ड चलना चाहती है। कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर ओबीसी समुदाय व कार्यकारी अध्यक्ष पद पर पाटीदार समुदाय के नेता क्रमश अमित चावड़ा, हार्दिक पटेल हैं जबकि नेता विपक्ष धनाणी खुद भी पाटीदार नेता हैं ऐसे में उपाध्यक्ष पद के लिए आदिवासी नेता का नाम आगे करके कांग्रेस इस समुदाय को साधने का प्रयास कर रही है ताकि आगामी चुनाव में पार्टी को लाभ हो सके।

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top