All for Joomla All for Webmasters
बिज़नेस

Business Idea: इस पत्‍ते के सिर्फ 50 पौधों से होती है सालाना 2.50 लाख रुपये तक की आमदनी, सरकार भी करेगी मदद

bay leaf

Business Idea: केंद्र सरकार कई तरीके की खेती में किसानों की काफी मदद कर रही है. हम आपको ऐसी ही खेती के (Business Idea) बारे में बता रहे हैं, जिसके एक बार पौधे लगाने के बाद आप सिर्फ पत्‍तों को बेचकर हर साल मोटी कमाई (earn money) कर सकते हैं.

नई दिल्‍ली. खेती में अगर पारंपरिक फसलों से हटकर बाजार में मांग के मुताबिक अलग चीजों की पैदावार करते हैं तो आप उम्‍मीद से कहीं ज्‍यादा मोटी कमाई कर सकते हैं. आज हम आपको ऐसी ही एक खेती के बारे में बता रहे हैं, जिसके सिर्फ 50 पौधे लगाकर आप उसकी पत्तियों से हर साल 1.50 लाख से लेकर 2.50 लाख रुपये तक की तगड़ी कमाई कर सकते हैं. सबसे बड़ी बात है कि इस खेती में आपको सिर्फ एक बार निवेश करके जिंदगी भर कमाई का मौका मिलता है. यही नहीं, इसमें केंद्र सरकार भी आपकी मदद करेगी. हम आपको तेज पत्ता की खेती (Bay leaf Farming) के बारे में बता रहे हैं. इसकी खेती के लिए शुरू में मेहनत करनी पड़ती है. पौधा बड़ा होने पर केवल देखभाल करनी होगी.

सरकार देती है 30 फीसदी सब्सिडी, बाजार में है काफी मांग
बाजार में तेज पत्ता की काफी मांग रहती है. ऐसे में इसकी खेती मुनाफे का सौदा साबित हो सकती है. तेज पत्ता की खेती करना बेहद ही आसान है. साथ ही इसकी खेती काफी सस्ती भी पड़ती है. आसान शब्‍दों में समझें तो इसकी खेती से किसान कम लागत में ज्‍यादा मुनाफा कमा सकते हैं. तेज पत्ता की खेती को प्रोत्साहित करने के लिए किसानों को राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड की ओर से 30 फीसदी सब्सिडी मुहैया कराई जाती है. एक अनुमान के मुताबिक, तेज पत्ते के एक पौधे से हर साल करीब 3000 से 5000 रुपये तक की कमाई होती है यानी 50 पौधों से 1.50 लाख से लेकर 2.5 लाख रुपये सालाना तक की कमाई की जा सकती है.

तेज पत्ता का इस्तेमाल अमेरिका, यूरोप, भारत समेत कई देशों में कई तरह के व्‍यंजनों को बनाते समय किया जाता है. इसका इस्तेमाल सूप, दमपुख्त, मांस, समुद्री भोजन और कई सब्जियों में किया जाता है. हालांकि, खाना परोसने के समय इन्‍हें हटा दिया जाता है. भारत और पाकिस्तान में इसका इस्‍तेमाल बिरयानी और अन्य मसालेदार व्यंजनों में किया जाता है. वहीं, गरम मसाले के तौर पर भी रसोई में रोज इनका इस्तेमाल भी होता है. इसका इस्‍तेमाल सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है. इसका ज्यादातर उत्पादन भारत, रूस, मध्य अमेरिका, इटली, फ्रांस, उत्तर अमेरिका और बेल्जियम में किया जाता है.

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय

To Top