All for Joomla All for Webmasters
जरूरी खबर

बड़ी खबर : Vande bharat ट्रेन से सोते हुए होगा सफर, रेलवे खरीदने जा रहा है 200 स्लीपर गाड़ी

रेल यात्रियों के लिए गुड न्‍यूज है। रेल मिनिस्‍ट्री 200 वंदे भारत ट्रेनों का ऑर्डर देने वाली है। ये सभी रात की जर्नी के लिए होंगी। यानि इनमें स्‍लीपर बर्थ होंगी। अभी जो ट्रेन चल रही हैं वे सीटिंग कोच वाली हैं।

नई दिल्‍ली, आइएएनएस। रेल यात्रियों के लिए बड़ी अच्‍छी खबर है। अब उन्‍हें भी Vandebharat जैसी सुपर फास्‍ट ट्रेन में सवारी का मौका मिलेगा। क्‍योंकि Indian Railways मार्च में 200 AC ट्रेनों के निर्माण के लिए 24,000 करोड़ रुपये का एक बड़ा टेंडर जारी करने की योजना बना रहा है। ये ट्रेनें ओवरनाइट जर्नी के लिए स्लीपर सुविधाओं वाली होंगी।

ये भी पढें : देश में डिजिटल पेमेंट ट्रांजेक्शन घटे, फरवरी में UPI के जरिए 8.27 लाख करोड़ रुपये का लेनदेन

कपूरथला, चेन्नै और रायबरेली में उत्पादन इकाइयों के अलावा रेलवे 200 वंदे भारत ट्रेन-सेट के निर्माण के लिए नव-निर्मित लातूर सुविधा का भी इस्‍तेमाल करेगा। Version-3 के रूप में कहा जा सकता है कि वंदे भारत की यह बहुत सारी ट्रेनें हल्की, ऊर्जा-कुशल (energy-efficient) और अतिरिक्त यात्री सुविधाओं के साथ होंगी।

ये भी पढें : महंगाई की मार : रूस से भारत नहीं आ पा रहा ये जरूरी सामान, जल्‍द हो सकती है किल्‍लत

अब तक रेलवे ने 102 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों (only siting) को चुना है। जबकि वह पहले ही 44 वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण का ठेका इंटीग्रल कोच फैक्‍टरी (ICC) में दे चुका है। 58 और ट्रेनों की खरीद के लिए बोली प्रक्रिया अभी जारी है। बता दें कि केंद्रीय बजट 2022-23 में 400 और वंदे भारत ट्रेनों की खरीद की घोषणा की गई थी।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 3,200 डिब्बों वाली 200 वंदे भारत ट्रेनों के लिए बोली दस्तावेजों को अंतिम रूप दिया जा रहा है और इसी महीने जारी किया जाएगा। बजट प्रावधान के अनुसार 16 डिब्बों वाली एक वंदे भारत ट्रेन पर 120 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। वर्जन-3 वंदे भारत एक्सप्रेस के लिए बोली लगाने वालों को एल्युमीनियम और स्टील दोनों तरह के डिब्बों के विकल्प दिए जाएंगे। आगामी 200 वंदे भारत सेवा में एसी-1, एसी-2 और एसी-3 क्‍लास होंगे।

लेकिन अगर मैन्‍युफैक्‍चरर्र स्टील का विकल्प चुनता है, तो उसे पहले वाली से कम वजन का होना चाहिए क्योंकि नई तकनीक के इस्‍तेमाल के साथ हल्के वजन की बोगी, ट्रांसफार्मर और मोटर आदि के लिए निर्देश तैयार किए जा रहे हैं। वर्जन-3 वंदे भारत रात भर की यात्रा के लिए है और इसके चरणों में राजधानी और दुरंतो सेवाओं को बदलने की संभावना है।

लेकिन अगर मैन्‍युफैक्‍चरर्र स्टील का विकल्प चुनता है, तो उसे पहले वाली से कम वजन का होना चाहिए क्योंकि नई तकनीक के इस्‍तेमाल के साथ हल्के वजन की बोगी, ट्रांसफार्मर और मोटर आदि के लिए निर्देश तैयार किए जा रहे हैं। वर्जन-3 वंदे भारत रात भर की यात्रा के लिए है और इसके चरणों में राजधानी और दुरंतो सेवाओं को बदलने की संभावना है।

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top