All for Joomla All for Webmasters
बिज़नेस

आधार-पैन कार्ड की डिटेल्स गलती से भी न करें शेयर, जालसाज कर सकते हैं GST चोरी में इसका इस्तेमाल

pan-aadhaar

अगर आप किसी से बिना खास वजह या वैलिड रीजन के अपना आधार या पैन डिटेल्स शेयर कर देते हैं तो ऐसा करने से आप खुद को परेशानी में डाल रहे हैं. कुछ जालसाज इसका इस्तेमाल करके जीएसटी की चोरी करते हैं.

  • बिना वजह किसी से शेयर नहीं करनी चाहिए आधार या पैन डिटेल्स
  • जालसाज इसका इस्तेमाल करके जीएसटी की चोरी करते हैं
  • सीबीआईसी ने ट्विटर पर दी जानकारी

नई दिल्ली: आज के समय में आधार और पैन कार्ड बेहद जरूरी डॉक्यूमेंट्स हैं. बैंक अकाउंट से लेकर अन्य कई जगहों पर इनका इस्तेमाल होता है. एक और जहां इनसे बैंक से जुड़े काम आसान हो गए हैं, तो वहीं इनके गलत इस्तेमाल की खबरें भी सामने आ रही हैं. अगर आप किसी से बिना खास वजह या वैलिड रीजन के अपना आधार या पैन डिटेल्स शेयर कर देते हैं तो ऐसा करने से आप खुद को परेशानी में डाल रहे हैं. आपके इन दोनों डॉक्यूमेंट का गलत इल्तेमाल हो सकता है. जालसाज इन डिटेल्स का इस्तेमाल जीएसटी चोरी में कर सकते हैं. 

ये भी पढें: Old Pension: पुरानी पेंशन बहाल होने से कितना होगा फायदा? हर राज्य में उठ रही मांग, जाने पूरा गणित

जीएसटी चोरी में हो रहा है आधार-पैन कार्ड का इस्तेमाल

इस बारे में केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने लोगों को सलाह दी है. केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने लोगों को सावधान करते हुए कहा है कि वैलिड वजह या किसी मौद्रिक लाभ के बिना आधार और पैन विवरण शेयर करने पर धोखेबाज इसका दुरुपयोग जीएसटी चोरी के लिए कर सकते हैं. खबर के मुताबिक, सीबीआईसी ने एक ट्वीट में कहा कि आधार और पैन विवरण का इस्तेमाल जीएसटी चोरी के लिए को लेकर फर्जी संस्थाएं बनाने में किया जा सकता है. इसलिए लोगों को बिना किसी वैध कारण के इन्हें साझा करने से बचना चाहिए. 

ये भी पढ़ें: Covid 19 Fourth Wave: जून में आएगी कोरोना की चौथी लहर? जानें सरकार ने दिया क्या जवाब

सीबीआईसी ने ट्विटर पर दी जानकारी

इसकी जामकारी सीबीआईसी ने ट्विटर पर दी. CBIC ने कहा कि अपने पर्सनल डेटा और डिटेल्स को सेफ रखें, जिसका दुरुपयोग कर जीएसटी चोरी के लिए फर्जी संस्थाएं बनाने में किया जा सकता है. बीते साल में वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) अधिकारियों ने कई फर्जी कंपनियों का भंडाफोड़ किया, जिनका इस्तेमाल माल की वास्तविक आपूर्ति के बिना नकली चालान बनाकर धोखाधड़ी से इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) का दावा करने के लिए किया गया.

कई यूजर्स के साथ हो चुका है फ्रॉड

इसके साथ ही आधार कार्ड का गलत इस्तेमाल करते बैंक से जुड़े कई फ्रॉड के मामले भी सामने आए हैं. आधार बेस्ड ट्रांजैक्शन में भी कई यूजर्स अब तक धोखा खा चुके हैं. बैंक इसको लेकर हमेशा अपने कस्टमर्स को अलर्ट करते रहते हैं कि अपना कोई भी पर्सनव डिटेल्स किसी से शेयर न करें. 

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top