All for Joomla All for Webmasters
शेयर बाजार

Nifty 21000 तो सेंसेक्‍स जाएगा 75000 के पार, जानिए क्‍या है एक्‍सपर्ट का तर्क

शेयर बाजार की चाल कैसी रहेगी। एक्‍सपर्ट की मानें तो FPI कहर से बचना चाहते हैं तो ऐसे स्टॉक चुनने चाहिए जहां FPI DII और एचएनआई सभी मौजूद नहीं हैं। वहां ट्रेडिंग से आपकी कमाई भी बढ़ेगी और बिकवाली का डर भी नहीं होगा।

नई दिल्‍ली, Kishore Ostwal। हम बाजार और रणनीति पर चर्चा करें, इससे पहले मेरा आप सभी से एक सवाल है। अगर आप बुरी तरह फंस गए हैं और बाहर निकलने की तलाश में हैं तो आप क्या करेंगे…? मुझे लगता है कि पहली चीज जो आप करेंगे, वह है बेचना। सही..? अब मुझे बताएं कि FPI निश्चित रूप से भारत से बाहर निकलना चाहता था, जो पिछले कुछ महीनों में 2,35,000 करोड़ रुपये की बिकवाली कर चुके हैं और पिछले 3 से 4 दिनों में एक अरब डॉलर से अधिक की आक्रामक बिकवाली खुदरा निवेशकों की हालत खराब कर रही है। फिर बुधवार को 4000 करोड़ रुपये की बिकवाली की जब निफ्टी 2 दिनों में 700 अंक चढ़ा था…? गुरुवार को फिर से जब निफ्टी 300 अंक अप हुआ तो एफपीआई पॉजिटिव हो गए (2100 करोड़ रुपये की कॉफोर्ज डील) अब वे बाहर निकलना नहीं चाहते हैं ..? या इसका मतलब यह हो सकता है कि बिकवाली खत्म हो गई है..? या इसका मतलब यह है कि वे बाजार पर नियंत्रण बनाने की कोशिश कर रहे हैं? या वे ऑपरेटरों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ..? वित्त वर्ष 2022 में 2,70,000 करोड़ रुपये की बिकवाली के बाद भी मेरे मन में एक बात साफ है कि वे भारत से बाहर निकलने के लिए यहां नहीं हैं..? कुछ महीनों में यह साबित हो जाएगा। अब आप इससे क्या समझना चाहते हैं, यह आप पर छोड़ता हूं। अगर आप FPI कहर से पीड़ित नहीं होना चाहते हैं, तो ऐसे स्टॉक चुनें जहां FPI, DII और एचएनआई सभी मौजूद नहीं हैं।

दूसरे शब्दों में कोई भी समझदार निवेशक अपनी होल्डिंग्स को 15.5 पीई (फॉरवर्ड) पर नहीं बेचेगा, जो 1991 के 11 पीई के सर्वकालिक निम्नतम स्तर से बहुत दूर नहीं था। स्थिति जो भी हो, युद्ध, मुद्रास्फीति, दर वृद्धि, तेल स्पाइक। शेयर बाजार को आगे बढ़ना है और भारत की 16% गिरावट का DOW की 9% गिरावट से कोई तुलना नहीं थी। इसका मतलब है कि गिरावट का रुख बनाया गया था और निवेशकों को एक उपहार दिया गया था, जो गिरावट में खरीदारी करें। यह दबाव स्टॉप लॉस को ट्रिगर करने, दूसरों की पोजीशन खाने, बाजार को हल्का बनाने के बजाय ओवरसोल्ड होने के लिए बनाया गया था जो रैली के लिए पहले से तय शर्तें हैं। खैर, बाजार में सब जायज है। बता दें कि कुछ महीने बाद निफ्टी 21000 के पार जाएगा और कई ने 75000 सेंसेक्स की रिपोर्ट भी जारी करना शुरू कर दिया है।

फेड की बैठक का अब बाजार पर खास प्रभाव नहीं पड़ेगा क्योंकि वे 100 बिप्‍स से 25 बिप्‍स पर आ गए हैं और युद्ध के प्रभाव को देखते हुए मुझे आश्चर्य नहीं होगा, बाजार 2022 में 7 बार रैली लेगा। 36700 से 32300 तक गिरकर डॉव भी ओवरसोल्ड स्थिति में है, हालांकि Oil की कीमतों में बढ़ोतरी अमेरिकी अर्थव्यवस्था के लिए बड़ी है। अमेरिकी अर्थव्यवस्था OIL पर टिकी है। गल्फ के पास स्वामित्व होने के बावजूद पूरे गल्फ के तेल पर अमेरिकी नियंत्रण है। Oil के मालिकों को 40 डॉलर से अधिक कुछ नहीं मिल सकता है, बाकी एक्सप्लोरेशन कंपनियों को जाता है, जो अमेरिकी हैं। यही नहीं Oil इन्वेंट्री वाले सबसे बड़े व्यापारी भी US में स्थित हैं। 2008 से अमेरिका तेल (25 डॉलर) जमा कर रहा है। सभी युद्ध जो तेल को चिंगारी देते हैं, आप इसके पीछे अमेरिकी का हाथ कह सकते हैं। तेल के निपटान के पीछे कई कारक हैं जो कारोबार को दिशा देते हैं। सेटलमेंट के दिन विक्रेताओं को भौतिक रूप में तेल देना होता है और खरीदार को इसे लेना होता है। यही कारण है कि 2020 में जब निपटान के दिन तेल स्टोर करने के लिए कोई जगह नहीं थी, तो खरीदारों को अनुबंध रद्द करने के लिए 39 डॉलर देने पड़ते थे, इस तरह तेल का कारोबार माइनस 39 डॉलर में हुआ था, लेकिन ऐसा केवल एक बार ही हुआ।

आइए अब हम अमेरिका में 18 मार्च के कार्यक्रम की चर्चा करें। हां, आप सही कह रहे हैं, फिर से हम “Quadruple Witching” की ओर बढ़ रहे हैं। आम तौर पर बाजार इस घटना से पहले ऊपर जाते हैं और फिर अमेरिका में सेटलमेंट के दिन तेजी से गिरते हैं। लेकिन इस बार स्थिति बिल्कुल उलट है। बाजार ओवरसोल्ड हैं। भले ही रैली आई हो चाहे आप इसे राहत कहें या रिकवरी, निश्चित रूप से यह शॉर्ट कवरिंग नहीं है। ज्‍यादातर ट्रेडर के लिए, चाहे वह अमेरिका हो या भारतीय, यह बढ़ते बाजार के कारण है। इससे मेरा मानना ​​है कि 18 मार्च 2022 तक सेटलमेंट पीरियड तक शॉर्ट्स बने रहेंगे। और अगर ऐसा है तो Dow को उस समय के आसपास 1000-1500 अंक बढ़ाना होगा। उस दौरान भारत में होली की छुट्टी होगी, इसलिए इसका असर केवल 21 मार्च को भारत में देखा जा सकता है। अगर 18 मार्च से पहले Dow 2000 अंक बढ़ जाता है तो मैं गलत हो सकता हूं।

हर मार्च में हम मार्जिन क्लोजर के कारण इस तरह का करेक्‍शन देखते हैं। अचानक सभी ब्रोकर मार्जिन फंडिंग बंद कर देते हैं। विशेष रूप से HNI के लिए, जो बाजार को नियंत्रित करते हैं। इसलिए करेक्‍शन रोका नहीं जा सकता। 1 अप्रैल से ताजा फंडिंग होगी और वे उन शेयरों को खरीदेंगे, जो बुरी तरह गिर गए हैं। जब तक आपको अहसास होगा, कई शेयर नई ऊंचाई पर होंगे। मैं इसे आपके ध्यान में लाने के लिए लिख रहा हूं ताकि जो लोग खुद के फंड से खरीदारी कर रहे हैं, वे इस मौके का फायदा उठा सकें। यह उन शेयरों को खरीदने का अंतिम अवसर हो सकता है, जिन्हें आपने पहले ही ऊंची कीमतों पर खरीदा है और कम से कम 25% द्वारा सही किया गया है। ऐसा करने से आपका मार्क टू मार्केट सिर्फ 10% होगा और यह अधिकतम 2 दिनों तक रहेगा, भले ही स्टॉक 5% सर्किट सीमा में हो। 2 महत्वपूर्ण कारक, जो आपको कंपनी का चयन करते समय हमेशा याद रखने की जरूरत है वह यह कि क्या कंपनी में धोखाधड़ी हुई थी या कोई लोन डिफाल्‍ट था। कीमतों में उतार-चढ़ाव किसी भी बाजार में पहले से तय परिस्थितियों के कारण होता है। लेकिन अगर ये 2 तत्व हैं तो निवेशकों को समय के साथ कीमतों में वापसी का आश्वासन दिया जा सकता है। क्या आपको SHAH ALLOYS याद है, जिसकी मैंने एक साल पहले 16 रुपये की सिफारिश की थी, अब यह 83 रुपये पर कारोबार कर रहा है। संक्षेप में कहूं तो बाजार को समझने में समय दें और जल्दबाजी न करें।

मैंने यूपी चुनावों के बारे में ज्यादा चर्चा नहीं की थी, हालांकि जमीनी हकीकत की स्पष्ट तस्वीर दी थी। अगले 5 साल में योगी कम से कम 5 और नए राजमार्गों के साथ उत्तर प्रदेश को नई ऊंचाई पर ले जा सकते हैं। बस यूपी के इंफ्रा शेयरों की तलाश करें, जो मल्टी बैगर बन जाएंगे। हमने सटीक भविष्यवाणी की थी कि बीजेपी यूपी जीतेगी और बाजार में धमाका होगा। अगर युद्ध की चिंता होती तो यूपी चुनाव परिणाम के दिन निफ्टी 15673 से 16740 तक नहीं जाता, वह भी एक वीकली सेटलमेंट डे था।

मार्च में 5 सेटलमेंट होने हैं। 2 हो गए हैं। हमारे पास 3 और सेटलमेंट हैं और इस दौरान कुछ भी संभव है। निफ्टी 17800 के पार भी जा सकता है। 65 दिनों में इसके 18800 अंक का मेरा टागेट अभी भी कायम है। हालांकि अभी 10 दिन ही हुए हैं। इसका मतलब यह भी है कि हमें अप्रैल की एक्‍सपायरी तक 18000 अंक से अधिक दिखना चाहिए। अगर ऐसा होता है तो मई-जून हमेशा ऐतिहासिक रूप से बुल से संबंधित होता है और निफ्टी नई ऊंचाई को छू सकता है।

मेरा मानना ​​है कि यहां से शेयर बेहतर प्रदर्शन करेंगे। भारत और भारतीय शेयर बाजार में भरोसा रखें। FPI को बिकवाली कर जाने दें। शेयर बाजार को उठना होगा और उठना होगा। मेरा अब भी मानना ​​है कि FPI बाजारों को तबाह कर सकता है, उसे नहीं बना सकता। यह DII है जो बाजार को ट्रेडिंग लायक बनाता है। मसलन सभी FPI ने व्हिसलब्लोइंग पर इंफोसिस को 500 रुपये में बेच दिया था। वे अब वही इंफोसिस 1800 रुपये में खरीद रहे हैं।

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top