All for Joomla All for Webmasters
दुनिया

चीन में कोरोना की चौथी लहर से दुनिया के कान खड़े, BA-2 वैरिएंट ने मचाई तबाही, लाकडाउन से तीन करोड़ लोग प्रभावित

कोरोना के इस सब-वेरिएंट को BA-2 वेरिएंट भी कहा जाता है। यह सब-वेरिएंट मूल वेरिएंट से अलग है। यह सब-वेरिएंट इसलिए चिंताजनक है क्योंकि इसका पता लगाना कठिन प्रक्रिया है। संगठन के अनुसार कोरोना का यह सब-वेरिएंट BA-2 कोरोना वायरस के मूल वेरिएंट जैसा ही खतरनाक सिद्ध हो सकता है।

नई दिल्‍ली, जेएनएन। Fourth Wave of Corona in China: चीन में एक बार फ‍िर कोरोना वायरस का प्रकोप चरम पर है। कोरोना वायरस के उद्गम स्रोत माने जाने वाले चीन में एक बार फिर से मामलों में उछाल देखने को मिल रहा है। चीन में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के पांच हजार से अधिक नए मामले सामने आए हैं। चीन में कोरोना संक्रमित हुए अधिकतर लोग ओमिक्रोन वैरिएंट के सब-वेरिएंट ‘stealth’ से पीड़ित पाए गए हैं। कोरोना वायरस को रोकने के लिए चीन के कई शहरों में सख्‍त लाकडाउन लगाया गया है। तीन करोड़ से ज्यादा लोग सख्त पाबंदियों में जीने को मजबूर हैं। दुनिया में कोरोना महामारी की चौथी लहर को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी चेतावनी दी है।

BA-2 वेरिएंट ने मचाही तबाही

गौरतलब है कि कोरोना के इस सब-वैरिएंट को BA-2 वैरिएंट भी कहा जाता है। यह सब-वैरिएंट मूल वैरिएंट से अलग है। यह सब-वैरिएंट इसलिए चिंताजनक है, क्योंकि इसका पता लगाना कठिन प्रक्रिया है। संगठन के अनुसार कोरोना का यह सब-वैरिएंट BA-2, कोरोना वायरस के मूल वैरिएंट जैसा ही खतरनाक सिद्ध हो सकता है। इस सब-वैरिएंट से पीड़ित लोगों में चक्कर आना और थकान महसूस होना सबसे प्रमुख लक्षण हैं। यह लक्षण वायरस से संक्रमित होने के दो से तीन दिनों के अंदर दिखते हैं। इन दो लक्षणों के अलावा बुखार आना, अत्यधिक थकान, खांसी, गले में खराश, मांसपेशियों में ऐंठन के लक्षण भी नजर आते हैं। 

ये भी पढ़ें : Crorepati Stock: 12 रुपये के इस शेयर ने बनाया करोड़पति, 1 लाख बन गए 1.64 करोड़

कोरोना महामारी की कोई चौथी लहर नहीं आएगी

हालांकि, भारत में कोरोना की तीसरी लहर समाप्त होने का दावा करते हुए जाने माने विषाणु विज्ञानी डा. टी जैकब जान ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि देश में तब तक महामारी की कोई चौथी लहर नहीं आएगी, जब तक वायरस का कोई अनपेक्षित स्वरूप सामने नहीं आ जाता। भारत में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 3,993 नए मामले सामने आए, जो पिछले 662 दिन में सबसे कम हैं। कोविड-19 की तीसरी लहर के दौरान संक्रमण के मामलों की संख्या 21 जनवरी के बाद कम होनी शुरू हो गई थी।

भारत में चौथी लहर की आशंका

उधर, कोरोना की चौथी लहर को लेकर एक नई चेतावनी भी आई है। महाराष्ट्र की कोविड टास्क फोर्स के सदस्यों ने आशंका जताई है कि गर्मी में जब ह्यूमिडिटी बढ़ेगी, तब वायरस भी फिर से फैलेगा। बचाव के लिए कोविड प्रोटोकाल यानी शारीरिक दूरी और मास्क का इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है। इससे पहले आईआईटी कानपुर के एक्सपर्ट्स ने एक स्टडी के जरिए आशंका जताई थी कि जून में चौथी लहर आ सकती है।

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top