All for Joomla All for Webmasters
जरूरी खबर

SBI में किया है लोन के लिए अप्लाई? बैंक ने बताया- अब इन आधार पर ही बैंक देगा उधार पैसे!

SBI

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अपने ग्राहकों को कई तरह की सर्विस देता है, जिसमें बैंक लोन भी शामिल है. बैंक कई तरह के लोन ग्राहकों को देता है और बैंक ग्राहक आसानी से लोन ले सकते हैं. लेकिन, कई बार ऐसा होता है कि किसी कारणवश लोन पास नहीं हो पाते हैं, क्योंकि इसमें कई तरह के फैक्टर के काम आते हैं. अगर आप भी लोन लेना चाहते हैं या फिर आपने लोन के लिए अप्लाई किया हुआ है तो आपको जान लेना चाहिए कि आखिर किस आधार पर बैंक लोन देता है.

दरअसल, हाल ही में एक बैंक ग्राहक ने ट्विटर के जरिए एसबीआई को टैग करते हुए शिकायत की थी कि उन्होंने लंबे टाइम से लोन के लिए अप्लाई किया हुआ है, लेकिन अभी तक लोन पास नहीं हुआ है. इसके बाद बैंक ने इस ट्वीट पर रिप्लाई करके बताया है कि बैंक किन आधार पर लोन देता है और अगर आपका भी लोन सेंक्शन नहीं हो रहा है तो उन्हें क्या करना चाहिए. ऐसे में जानते हैं कि लोन देते वक्त बैंक किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

किस आधार पर मिलता है लोन?

बैंक ग्राहक ने बताया उन्हें लोन लेने में किस तरह की मुश्किलें आ रही हैं और बताया कि किन आधार पर बैंक की ओर से लोन नहीं दिया जा रहा है. इसके बाद एसबीआई ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि लोन सेंक्शन होना कई बातों पर निर्भर करता है, जिसमें इनकम, गिरवी करने के लिए सामान, वर्तमान कर्ज, क्रेडिट हिस्ट्री, फिजिबिलिटी आदि शामिल है.’ यानी बैंक जब भी लोन देता है तो इसमें इन बातों का ध्यान रखा जाता है.

साथ ही बैंक ने बताया, ‘अगर आपकी लोन को लेकर हमारी ब्रांच या सर्विस को लेकर कोई विशेष शिकायत है तो आप crcf.sbi.co.in/ccf/ under Existing Customers/ Advances related category में जाकर जानकारी दे सकते हैं.’

होम लोन है सस्ता

एसबीआई इस समय देश में सबसे सस्ता होम लोन ऑफर कर रहा है. होम लोन के लिए इंट्रेस्ट रेट की शुरुआत 6.70 फीसदी से शुरू होती है. SBI की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, प्रोसेसिंग फीस माफी को 19 जुलाई से लागू किया गया है जो 31 अगस्त तक चलेगा. SBI Home Loan पर इंट्रेस्ट रेट कम रहता है, प्रोसेसिंग फीस दूसरे बैंकों के मुकाबले कम रहती है. प्री-पेमेंट को लेकर किसी तरह की पेनाल्टी नहीं लगती है. इसके अलावा लोन लेने वाला कर्ज का भुगतान 30 सालों में भी कर सकता है. इससे उसकी ईएमआई कम हो जाती है. महिलाओं को इंट्रेस्ट पर एडिशनल लाभ मिलता है.

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top