All for Joomla All for Webmasters
टेक

Online shopping करते समय इन बातों का जरूर रखें ध्यान, नहीं होगा जरा-सा भी नुकसान

online_shopping

नई दिल्ली, टेक डेस्क। Online shopping Tips in Hindi: कोरोना काल में ऑनलाइन शॉपिंग (Online Shopping) का चलन बढ़ गया है। अब ज्यादातर लोग अपने आप को संक्रमण से बचाने के लिए फ्लिपकार्ट (Flipkart) और अमेजन इंडिया (Amazon India) जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से खरीदारी करते हैं। हालांकि, कई बार ग्राहक ऑनलाइन शॉपिंग करते समय गलतियां कर बैठते हैं, जिसके बाद उन्हें नुकसान झेलना पड़ता है। आज हम आपको यहां कुछ खास टिप्स देने जा रहे हैं, जिनका ध्यान आपको ऑनलाइन खरीदारी करते समय रखना होगा।

कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प चुनें

अगर आप ऑनलाइन ठगों से अपनी मेहनत की कमाई बचाना चाहते हैं, तो आप ऑनलाइन शॉपिंग करने के दौरान कैश ऑन डिलीवरी के विकल्प को चुनें। यह सबसे सुरक्षित तरीका है। इसमें आपको अपने बैंक के खाते की जानकारी दर्ज करने की जरूर नहीं होगी और ऑनलाइन धोखाधड़ी की संभावना भी कम हो जाएगी। कैश ऑन डिलीवरी के तहत जब आपके घर सामान आएगा, तभी आपको पेमेंट करनी होगी।

बैंक खाते की जानकारी शॉपिंग वेबसाइट पर सेव न करें

ऑनलाइन शॉपिंग करने के बाद जब हम पेमेंट करने के लिए जाते हैं, तो हमारे पास सेव कार्ड डिटेल का विकल्प आता है। कई हम जल्दबाजी में यस ऑप्शन पर क्लिक कर देते हैं। इसके बाद हमारे क्रेडिट या डेबिट कार्ड जानकारी वेबसाइट पर सेव हो जाती है। हमें ऐसी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। हमेशा पेमेंट करते समय ध्यान रखें कि सेव कार्ड डिटेल के ऑप्शन को नो करें। ऐसा करने से आपके बैंक अकाउंट में जमा राशि सुरक्षित रहेगी।

आधिकारिक वेबसाइट से भी कर सकते हैं शॉपिंग

यदि आप किसी प्रोडक्ट को खरीदने की सोच रहे हैं, तो आप ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट की बजाय उसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जा कर खरीदारी कर सकते हैं। ऐसा करने से आपको ओरिजिनल प्रोडक्ट मिलेगा और आपका बैंक अकाउंट सुरक्षित रहेगा।

फेक वेबसाइट से बचकर रहें

आजकल हैकर्स फर्जी वेबसाइट या मोबाइल ऐप बनाकर लोगों को अपना निशाना बना रहे हैं। ऐसे में फर्जी वेबसाइट की पहचान करना बहुत जरूरी है। अगर आपको नहीं पता है कि फर्जी वेबसाइट की पहचान कैसे की जाए, तो हम आपको एक तरीका बताएंगे। फर्जी वेबसाइट की पहचान करने के लिए यूआरएल को ध्यान से देखें। यूआरएल में केवल एचटीटीपी है, तो सावधान हो जाए, क्योंकि यह फर्जी वेबसाइट हो सकती है। वहीं, दूसरी तरफ यूआरएल में एचटीटीपीएस लिखा दिखाई दे रहा है, तो समझ जाए कि वेबसाइट पूरी तरह से सुरक्षित है।

Source :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

लोकप्रिय

To Top